स्वागत, Thursday , Apr , 18 , 2024 | 12:34 IST

मुख्य पृष्ट

CSIR - CMERI

সিএসআইআর - সেন্ট্রাল মেকানিক্যাল ইঞ্জিনিয়ারিং রিসার্চ ইনস্টিটিউট, বিজ্ঞান ও প্রযুক্তি মন্ত্রণালয়, ভারত সরকার सीएसआईआर - केंद्रीय यांत्रिक अभियांत्रिकी अनुसंधान संस्थान, विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय, भारत सरकार CSIR - Central Mechanical Engineering Research Institute, Ministry of S&T, Govt. of India
Mobile nav
आखरी अपडेट : 10 Nov, 2023

निदेशक के कलम से

सीएसआईआर-केंद्रीय मैकेनिकल इंजीनियरिंग रिसर्च इंस्टीट्यूट

महात्मा गांधी एवेन्यू, दुर्गापुर - 713209 [भारत]

Director

निदेशक के डेस्क से

 

सभी को मेरी शुभकामनाएं!

मैं सीएसआईआर-सीएमईआरआई नामक इस महान संस्थान का नेतृत्व करते हुए अपने दिल में बहुत गर्व और सम्मान की अनुभूति कर रहा हूँ। इस संस्था का एक गौरवशाली अतीत रहा है, क्योंकि इसने स्वदेशी रूप से विकसित स्वराज ट्रैक्टर को राष्ट्र को समर्पित करके भारत में हरित क्रांति की शुरुआत करने की दिशा में जबरदस्त योगदान दिया है। इसके बाद, वर्षों से सीएसआईआर-सीएमईआरआई मैकेनिकल इंजीनियरिंग और संबद्ध क्षेत्रों के क्षेत्र में एक अत्याधुनिक प्रीमियर अनुसंधान प्रयोगशाला के रूप में विकसित हुआ है। सूरी-ट्रांसमिशन इंजीनियरिंग के क्षेत्र में एक सफलता है जिसका सीएसआईआर-सीएमईआरआई का अभूतपूर्व और अनिवार्य योगदान रहा है।

इन वर्षों में यह संस्थान निरंतर विकसित होते आया है और मैकेनाइज्ड ड्रेन क्लीनिंग व्हीकल, म्युनिसिपल सॉलिड एंड लिक्विड वेस्ट मैनेजमेंट, मॉब कंट्रोल व्हीकल, एंटी-कोविड तकनीकों की एक श्रृंखला विकसित करके समाज के लिए योगदान दिया है। संस्थान के मुख्य अनुसंधान क्षेत्रों में रोबोटिक्स, एडिटिव मैन्युफैक्चरिंग, फार्म मैकेनाइजेशन, रिन्यूएबल एनर्जी, इलेक्ट्रिक मोबिलिटी, एयरो सिस्टम्स, एडवांस्ड डिजाइन एंड सिमुलेशन, ट्राइबोलॉजी, स्मार्ट फाउंड्री, एनडीटी और कंडीशन मॉनिटरिंग शामिल हैं। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, मशीन लर्निंग, सस्टेनेबली इंजीनियर्ड मैटेरियल्स, इंटरनेट-ऑफ-थिंग्स जैसी कुछ अग्रणी तकनीकों के आगमन के साथ राष्ट्र का प्रौद्योगिकी परिदृश्य विघटनकारी और प्रतिमान बदलाव देख रहा है और 5जी तकनीक से संचार प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में एक क्रांतिकारी बदलाव आया है। इस प्रकार, सीएसआईआर-सीएमईआरआई के आरएंडडी ओरिएंटेशन को सावधानी से तैयार किया जाएगा ताकि खुद को राष्ट्र की तकनीकी नब्ज जैसे कि जलवायु परिवर्तन निवारक तकनीक, औद्योगिक स्वचालन में कृत्रिम बुद्धिमत्ता को अपनाना, स्मार्ट खेती और प्रौद्योगिकी डोमेन की ओर तेजी से बढ़ना, स्मार्ट फाउंड्री, उपरोक्त के मद्देनजर स्मार्ट फार्म मशीनें और प्रौद्योगिकी, बुद्धिमतापूर्ण निरीक्षण और सहयोगी रोबोट, स्मार्ट विनिर्माण (विनिर्माण और योजक विनिर्माण में एआई/एमएल), ईवी/एफसीईवी और नवीकरणीय ऊर्जा के लिए प्रौद्योगिकियां और सामाजिक और रणनीतिक क्षेत्रों के लिए स्वदेशी प्रौद्योगिकियों के साथ संरेखित किया जा सके।

आज इस वैश्वीकृत अर्थव्यवस्था में जहां एक तरफ किसी भी घटना का पूरे ग्रह पर व्यापक डोमिनोज़ प्रभाव पड़ता है वही दूसरी तरफ राष्ट्र की घरेलू अर्थव्यवस्था को मजबूत करना भी बहुत महत्वपूर्ण होता है। हमारी राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था के प्राथमिक कार्यक्षेत्रों में राष्ट्र का औद्योगिक परिदृश्य होता है। वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर), सीएसआईआर-सीएमईआरआई की मूल संस्था को आवश्यक प्रौद्योगिकी हस्तक्षेपों के साथ राष्ट्र के उद्योग की सहायता करने के कार्य के साथ अधिदेशित किया गया था। सीएसआईआर-सीएमईआरआई पूरी ताकत और उत्साह के साथ उस जनादेश को पूरा करना हेतु प्रयास को जारी रखने की कल्पना करता है। एमएसएमई भारतीय अर्थव्यवस्था का जीवन-रक्त हैं। वे राष्ट्रीय सकल घरेलू उत्पाद का एक विशाल हिस्से का योगदान करते हैं और इस प्रकार सीएसआईआर-सीएमईआरआई के लिए प्राथमिक मूल्य रखते हैं। राष्ट्र के एमएसएमई के साथ निरंतर और फलदायक बातचीत सीएसआईआर-सीएमईआरआई के लिए एक स्वागत योग्य चुनौती प्रदान करेगी। इन्हे संस्थान से महत्वपूर्ण तकनीकी हस्तक्षेपों के साथ उनके प्रयासों में सहायता करना होता है।

जीवाश्म ईंधन लगातार राष्ट्र के लिए एक बड़ा पारिस्थितिक और आर्थिक बोझ बनता जा रहा है। राष्ट्रीय नीति प्रदर्शन के लिए कार्बन तटस्थता प्राथमिक केंद्र बिंदुओं में से एक रही है। दुनिया भर की विभिन्न घटनाओं ने इस तथ्य पर और अधिक जोर दिया है कि अक्षय ऊर्जा प्रणालियों की स्वीकृति में तेजी लाने की आवश्यकता है ताकि जीवाश्म ईंधन पर निर्भरता और इसकी कीमतों में अस्थिरता से जुड़ी अनिश्चितता को कम किया जा सके। इस प्रकार सीएसआईआर-सीएमईआरआई भी स्वच्छ और हरित प्रौद्योगिकियों पर अपने अनुसंधान एवं विकास फोकस को अभिसरण करने का इरादा रखता है। वर्ष 2030 तक सीएसआईआर-सीएमईआरआई के अनुसंधान को वैसे शीर्ष पर पहुंचाना मेरा विजन है कि यह संस्थान स्वदेशी रूप से प्राप्त सामग्री के साथ स्वच्छ, हरित और पर्यावरणीय रूप से जिम्मेदार ऊर्जा प्रणालियों को विकसित करने में सक्षम हो और तब अपने आप में इसकी एक ठोस और मजबूत उद्यमशील क्षमता होगी।

एक अन्य प्रमुख आयाम जिसे मैं सीएसआईआर-सीएमईआरआई की अनुसंधान दिशा में चलाने का इरादा रखता हूं, वह राष्ट्रीय ऊर्जा सुरक्षा यानी टाइप IV हाइड्रोजन स्टोरेज सिस्टम के संदर्भ में एक अन्य अतिरिक्त महत्वपूर्ण पहल है। हाइड्रोजन स्टोरेज के क्षेत्र में किसी भी बड़ी सफलता के राष्ट्रीय और वैश्विक अर्थव्यवस्था के लिए कई गुना और महत्वपूर्ण प्रभाव होंगे।

इन पहलों का सामूहिक रूप से आयात-प्रतिस्थापन, निर्यात-संवर्धन को बढ़ावा देने और अंतर्राष्ट्रीय व्यापार के संदर्भ में राष्ट्रीय भुगतान संतुलन के आंकड़ों में नाटकीय रूप से सुधार करके आत्मनिर्भर भारत के मूल सिद्धांतों को मजबूत करने के मामले में व्यापक प्रभाव पड़ेगा।

इसके साथ ही संस्थान के आईपीआर पोर्टफोलियो को मजबूत करने की दिशा में लगातार योगदान देने के लिए हमारे वैज्ञानिक मानव संसाधन को प्रोत्साहित करके सीएसआईआर-सीएमईआरआई के बौद्धिक संपदा ढांचे को प्रोत्साहित करने की दिशा में भी मेरा प्रयास होगा। संस्थान से प्रत्येक स्वीकृत प्रकाशन के लिए एक उच्च औसत प्रभावकारी बनाने का मेरा विजन राष्ट्र के वैज्ञानिकों के अथक समर्पण के माध्यम से ही साकार किया जा सकता है।

मैं संस्थान के लिए उद्योग, उद्यमियों और युवाओं के सदस्यों के साथ निरंतर और उपयोगी बातचीत के माध्यम से संस्थान की अत्याधुनिक गतिविधियों की जागरूकता पहुंच का विस्तार करने जैसे अन्य प्रमुख कार्यक्षेत्रों के अनुसरण करने का इरादा रखता हूं। डिजिटल मीडिया, सोशल मीडिया और इंटरेक्शन प्लेटफॉर्म जैसे मानव संसाधन आदान-प्रदान, सेमिनार और सम्मेलनों की शक्ति का उपयोग करके एक मजबूत ज्ञान प्रसार तंत्र के माध्यम से प्रयोगशाला के दौरे और वैज्ञानिकों के साथ बातचीत को और मजबूत किया जाएगा।

मैं सीएसआईआर-सीएमईआरआई के जीवंत समुदाय, जिसमें वैज्ञानिक, छात्र, तकनीकी और प्रशासनिक कर्मचारी शामिल हैं, को बार-बार इस संस्थान की प्रतिष्ठा बनाए रखने हेतु उनके लगातार किए जाने वाले प्रयासों के लिए धन्यवाद देता हूं।

आगामी मार्ग में सीएसआईआर-सीएमईआरआई 2030 तक मैकेनिकल इंजीनियरिंग और संबद्ध क्षेत्रों में राष्ट्र के प्रमुख प्रौद्योगिकी प्रदाता के रूप में उभरेगा और भारतीय उद्योग और देश के सामाजिक-आर्थिक विकास में नवाचार प्रक्रिया में केंद्रीय भूमिका निभाएगा। मैं एक 'ब्रांड सीएमईआरआई' स्थापित करना चाहता हूं जो 'विश्वसनीयता, दक्षता, प्रदर्शन और नवीनता' शब्दों का पर्याय होगा।

मैं अपने मिशन का हिस्सा बनने और भारत के हमारे माननीय प्रधान मंत्री मेक इन इंडिया' ! मेड फॉर वर्ड” के सपने को साकार करने में मदद करने हेतु आप सभी का स्वागत करता हूं।

प्रो हरीश हिरानी

 

बायोडाटा मानब संसाधन प्रोफाइल

Contact Us: Contact Us